Gujarati People Online Voting

Gujarati People Online Voting

આપને પીએમ કિસાન યોજનાનો હપ્તો મળી ગયો છે?

View Results

Loading ... Loading ...

देश के अन्य राज्यों की तरह ही Gujarat के किसानों की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। यहाँ के किसान भी कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर रहे हैं।

Gujarat के किसान बेमौसम बरसात के कारण आर्थिक तौर पर भारी नुकसान उठा रहे हैं। राज्य सरकार ने सहायता पैकेज की घोषणा की है किन्तु अभी तक 30 लाख से भी अधिक किसानों ने सहायता का फार्म ही नहीं भरा है। किसान फसल बीमा का इंतजार भी कर रहे हैं। सरकारी आदेश के बाद भी निजी फसल बीमा कम्पनियां इसमें विलंब कर रही हैं। ऐसे हालात में गुजरात के किसान कर्ज माफी की मांग करने लगे हैं।

देश के अन्य राज्यों की तरह ही Gujarat के किसानों की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। यहांं के किसान भी कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर रहे हैं। इस बीच राज्य के किसानों ने कर्ज माफी के लिए मांग तेज कर दी है। किसानों ने उत्तर गुजरात के अरवल्ली जिले के सतारडा गांव में कर्ज माफी के साथ आंदोलन शुरू किया हैं।

Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi In Bank Details

Gujarat के 43 प्रतिशत किसान कर्जदार हैं। इन पर औसतन 38,000 रुपये कर्ज है। गुजरात में किसानों का संगठन चलानेवाली भाजपा समर्थित किसानों का संगठन किसान संघ किसानों की कर्ज की समस्या पर चुप्पी साधे हुए हैं।

उन्होंने कहा कि गत वर्ष कम बरसात के कारण किसानों को नुकसान हुआ तो इस वर्ष बेमौसम बरसात के कारण नुकसान पहुंचा है। राज्य सरकार से मांग की गयी है कि वह ऐसे विपरीत हालात में किसानों का कर्ज माफ करे। हांलाकि किसानों के साथ हमदर्दी का दावा करनेवाली सरकार किसानों की बात सुनने के लिए तैयार नहीं है

गुजरात के 43 प्रतिशत किसान कर्ज में डूबे हुए हैं। कृषि स्टेटेस्टक्स के अनुसार गुजरात के 58.72 लाख किसान अर्थात 66.9 प्रतिशत लोग कृषि से सम्बद्ध है। इनमें से 39.31 लाख किसानों पर कर्ज हैं। कुल 34 लाख किसानों ने 54,237 करोड़ रुपये टर्म लोन लिए हैं। इनमें ट्रैक्टर की खरीदी के लिए 204 करोड़ रुपये कर्ज लिए हैं। प्रत्येक किसान पर औसतन 38100 रुपये कर्ज हैंमहाराष्ट्र में सरकार ने किसानों का दो लाख रुपये कर्ज माफ किया है। अब गुजरात के किसान भी महाराष्ट्र की तरह ही कर्ज माफी की मांग कर रहे हैं। इसके लिए आंदोलन की शुरूआत भी हो चुकी हैं।  

Gujarat के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने बुधवार को विपक्षी कांग्रेस पर अपनी ‘‘वोट बैंक की राजनीति’’ के लिए कर्ज माफी और फसल बीमा योजना पर किसानों को गुमराह करने का आरोप लगाया। उन्होंने यहां किसानों के एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी सरकार ने बेमौसम बारिश के कारण फसल के नुकसान के लिए 3,795 करोड़ रुपये के मुआवजे के पैकेज की घोषणा की है जिसके तहत 56 लाख से अधिक किसान आयेंगे।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के दौरान छोटा उदयपुर, नर्मदा, भरूच और वडोदरा समेत मध्य Gujarat के जिलों के प्रभावित किसानों को वित्तीय सहायता वितरित की। रुपाणी ने आरोप लगाया, ‘‘कांग्रेस वोट बैंक की राजनीति के लिए कर्ज माफी और फसल बीमा के मुद्दों पर किसानों को गुमराह करती है।’’

Gujarat No 1 Agriculture Information Website Daily Update  All APMC Market Rate Free Information In Whatsapp Mobile Every Day

Gujarati People Online Voting